एक समय था जब " मंत्र " काम करते थे ! उसके बाद एक समय आया जिसमें " तंत्र " काम करते थे... - jagoindiatv, Taja khabar, Latest News,today 2022

Breaking

Sunday, November 17, 2019

एक समय था जब " मंत्र " काम करते थे ! उसके बाद एक समय आया जिसमें " तंत्र " काम करते थे...

एक समय था जब " मंत्र " काम करते थे !
उसके बाद एक समय आया जिसमें " तंत्र " काम करते थे...
फिर समय आया जिसमे " यंत्र " काम करते थे !
और आज के समय में कितने दुःख की बात है,
सिर्फ
" षड्यंत्र " काम करते है...!!!
 जब तक "सत्य " घर से बाहर निकलता है.......!
तब तक " झूठ " आधी दुनिया घूम लेता है. सुप्रभात
10-आप मे से ज्यादातर लोग बाबासाहब डॉ0 भीमराव अम्बेडकर ( 1891-1956) को जानते होंगे पर आपने कभी उनके पुत्र यशवंतराव अम्बेडकर (1912-1977) का नाम नही सुना होगा...... इसका कारण यह है कि यशवंतराव अम्बेडकर ने स्वयम को बहुजन आंदोलन से अलग रखा....वो अपने पिता से खिन्न थे और घर मे पिता पुत्र के बीच बहुत विवाद होते थे......

1935 मे माता  रमाबाई की म्रत्यु के बाद विवाद इतना बढा कि बाबा साहब दुखी हो गये और फिर  उन्होने यशवंतराव जी को व्यस्त रखने  के लिये के लिये उनके नाम पे  एक निजी प्रिंटिंग प्रेस खोल दिया.... उस प्रिंटिंग प्रेस के संचालन मे यशवंतराव जी ने स्वयम को  पुरी तरह झोंक दिया और  दूसरे घर मे रहने लगे...

आखिर क्या वजह थी कि बाबा साहब का एकमात्र पुत्र  यशवंतराव अम्बेडकर उनसे नफरत करता था ?

वजह जान के आप भी मानने लगोगे कि यशवंतराव अम्बेडकर का गुस्सा ज़ायज़ था और वो सच बोलता थे...

बाबासाहेब का विवाह 1907 मे हुआ था और विवाह के 5 वर्ष बाद 1912 मे यशवंतराव अम्बेडकर जी पैदा हुये थे.....

यशवंतराव ने अपनी आंखो के सामने अपने तीन भाईयो गंगाधर,रामादेश, राजरतन और एक बहन इंदु को भूख और बीमारी से दम तोडते देखा...... वह रोकता था अपने पिता को और कहता था कि क्यु करते हो व्यर्थ मेहनत|  ये एहसान फरामोश दलित आपको भूल जायेंगे और दिन रात मंदिर मे घुसने के सपने देखेंगे...और बाद मे यही हुआ...

यशवंतराव सच बोलते थे...

यशवंतराव ने देखा कि उसके भाई राजरतन की लाश को शमशान ले जाने की जगह उसके पिता दलितो के लिये बनाये गये साईमन कमीशन की मीटिंग अटेंड करने चले गये|  राजरतन की लाश को शमशान उसके चाचा और दूसरे लोग ले गये थे......

यशवंतराव ने देखा कि उसके भाई राजरतन की लाश को ढांकने के कफन के लिये उनके पास पेसा नही था...उसने देखा कि  उसकी माता ने अपनी साडी का एक छोटा टुकडा  फाड के कफन की व्यवस्था की...  वह कोसता था अपने पिता को और कहता था कि इन एहसान फरामोश दलितो की भलाई के  लिये क्यु मेरी माता को रुला रहे हो....ये एहसान फरामोश दलित आपको भूल जायेंगे और उपवास रखने मे सवर्नो से होड करेंगे.... और बाद मे यही हुआ... यशवंतराव सच बोलते थे...

यशवंतराव ने बचपन से ही देखा कि किस तरह उसके पिता अपने परिवार को नज़र अंदाज़ करके दलितो के उत्थान के लिये प्रयासरत थे...बाबा साहब सन 1917 से ही अंग्रेज सरकार को भारत मे दलितो को अधिकार दिलाने के लिये हर महीने पत्र लिखते थे.. 1917 से ले के 1947 तक , 30 साल तक लिखे पत्रो का ही असर था कि आजादी देते वक़्त अंग्रेजो ने शर्त रख दी कि सम्विधान बाबा साहब से लिखाया जायेगा और दलितो को आरक्षण दिया जायेगा....

यशवंतराव ने अपनी आंखो से देखा कि उसका पिता तो स्कोलरशिप पे कोलम्बिया मे पढ रहा है और  मुम्बई जेसे बडे शहर मे अपना खर्च चलाने के लिये  उसकी माता गोबर के उपले बना बना के बेचती है..उसने देखा कि उसकी मां अपने बच्चो के इलाज़ के लिये अपने रिश्तेदारो से बार बार वित्तीय सहायता हेतु विनती करती है और रिश्तेदार इधर उधर के बहाने बना के टाल देते हैं ...वह कोसता था अपने पिता को और कहता था कि इन एहसान फरामोश दलितो के लिये क्यु अपने परिवारजनो को दुखी कर रहे हो, ये एहसान फरामोश दलित आपको भूल जायेंगे और दिन रात देवी देवताओ के भजन गायेंगे....और बाद मे यही हुआ....यशवंतराव सच बोलते थे...

यशवंतराव ने अपनी आंखो से अपनी माता रमाबाई को सन 1935 मे भूख और बीमारी से दम तोडते देखा......

इन सब अनुभवो ने छोटी उम्र मे ही यशवंतराव को दुनिया की कडवी हक़ीकत से वाकिफ करा दिया..वो जानता था कि बाबा साहब चाहे अपनी जान न्योछावर कर  दे दलितो के उत्थान के लिये, ये एहसान फरामोश दलित कभी उनका बलिदान ना समझेंगे...ये गद्दार लोग बाबा साहब को भूल जायेंगे और बढ चढ के जगराता आदि करायेंगे...और बाद मे यही हुआ..... यशवंतराव सच बोलते थे...
.
यशवंतराव जानते थे कि यही दलित बाबा साहब की जयंती मे 10 रुपये का चंदा देने मे नाक भौ सिकोडेंगे और मंदिर बनाने के लिये 5000-10,000 रुपये आसानी से देंगे...और बाद मे यही हुआ ... यशवंतराव सच बोलते थे .....
.
यशवंतराव जानते थे कि जब किसी शहर मे बाबा साहब की जयंती मनायी जायेगी तो शहर के 20-30 हजार दलितो मे से केवल 100-150 लोग ही जयंती मनाने आयेंगे ताकि कोई उन्हे महार,चमार,भंगी ना समझ बैठे....और बाद मे यही हुआ ....यशवंतराव सच बोलते थे....
.
यशवंतराव जानते थे कि आरक्षण का फायदा उठा के यही दलित लोग सबसे पहले अपने लिये केवल गाडी और बंगले का इंतेज़ाम करेंगे और दुसरे दलित भाईयो की परछाई से भी दूर रहेंगे.... एक बंगला बन जाने के बाद दुसरे बंगले का इंतेज़ाम करेंगे... और दूसरा बंगला बन जाने के बाद तीसरे बंगले का इंतेज़ाम करेंगे|  और बाद मे यही हुआ  यशवंतराव सच बोलते थे....

अगर बाबा साहब का ज़रा भी सम्मान करते हो तो मेरी इस पोस्ट को अधिक से अधिक शेयर करें और समाज के गद्दारो तक ज़रूर पहुचाये ताकि उन्हे भी पता चले कि बाबासाहब ने उनके लिये कितनी कुर्बानिया दी।.

No comments:

Post a Comment

you have any dauts, Please info me know